Blogger के लिए Motivation Ex. Cricketer Kuldeep Yadav

22

ft. Kuldeep Yadav – Blogging Career को एक मुकाम पर ले जाने के लिए हम सभी Bloggers कितनी चुनौतियों का सामना करते है यह हम ही अच्छे से समझ सकते है. इन चुनौतियों के सामने कई बार लोग घुटने भी टेक देते हैं और निराश हो कर Blogging को छोड़ जाते है,

हम सभी Bloggers की जिन्दगी में एक कठिन समय ऐसा भी होता है जब हम अपनी जी जान से मेहनत कर रहे होते है लेकिन हमे महीनो तक कुछ नहीं मिलता. जो व्यक्ति इस समय में हिम्मत और लगन से काम करता रहता है वह देर से ही सही लेकिन सफल जरुर होता है !

Blogger के लिए Motivation Ex. Cricketer Kuldeep Yadav 1

इसके लिए कई बड़े Bloggers के उधाहरण हमारे सामने है. लेकिन .. यदि आप अपनी महीनो की मेहनत को शुरू से ही पैसों में तोलना चाहते है और सोचते है आपको सफलता रातों रात मिले तो यह थोडा मुश्किल है,

अगर आप भी ब्लॉगिंग की दुनिया में निराशा की ओर बढ़ रहे है तो आइये बात करते है Indian Cricket Team के स्पिन गेंदबाज Kuldeep Yadav की जिनकी कहानी सुनने के बाद आप में ऊर्जा और अपने Blog के प्रति लगन पुनः बढ़ जाएगी.

क्रिकेट की दुनिया में Kuldeep Yadav आज एक चमकता सितारा है. Kuldeep Yadav का करियर अपनी ऊचाइयां छू रहा है. विपक्षी टीम के बल्लेबाज Kuldeep Yadav की गूगली के आगे ढेर होते नजर आते है. लेकिन .. क्या आप जानते है , एक समय Kuldeep Yadav की जिन्दगी में ऐसा भी आया था जब वह निराश हो कर आत्महत्या करने चल दिए थे.

Cricketer Kuldeep Yadav Success Story in Hindi

दरअसल , कानपुर के रहने वाले Kuldeep Yadav यादव जब 13 साल के थे तो अंडर 15 में चयन न होने के कारण इतने परेशान हो गये की उन्होंने आत्महत्या का मन बना लिया. Kuldeep Yadav को अपनी जिन्दगी में सब कुछ उस समय ख़त्म सा नजर आया और लगा की वह क्रिकेट में सफल नही हो सकते.

जबकि आज दुनिया के सर्वश्रेष्ठ स्पिनर्स में शुमार Kuldeep Yadav चाइनामैन के नाम से जाने जाते है और धोनी के पसंदीदा गेंदबाज है. Kuldeep Yadav ने हिन्दुस्तान टाइम्स को इंटरव्यू के दौरान बताया की किस प्रकार अंडर 15 में चयन न होने के कारण वह परेशान थे और उनके मन में आत्महत्या का विचार आ रहा था. Kuldeep Yadav ने कहा ,

 मेरे लिए वह समय बेहद ही कठिन था , आज मै पीछे मुड कर देखता हूँ तो समझ आता है कठिन समय हर किसी का होता है जो आपको निखारने में मदद करता है. लेकिन तब यदि मैंने कोई गलत कदम उठालिया होता तो आज मैं इस मुकाम पर नहीं होता. “

दोस्तों , यदि हम अपने ब्लॉगिंग कैरियर को देखें तो हम सभी कठिन समय से गुजरते है हमारे लेख काफी समय तक रैंक नहीं होते, हमे ट्रैफिक नहीं मिलता, हम SEO ठीक से नहीं कर पाते या लोग हमारे लेख पर समय नहीं बिताते,

ऐसे में हमे निराश होने की बजाय अपने काम और गलतियों को सुधारने के बारे में सोचना चाहिये. निराश हो कर बैठ जाना या फिर छोड़ देना कोई विकल्प नहीं है , किसी भी काम को आप दिल से करेंगे तो एक दिन आप जरुर सफल होंगे. भारत के सफल ब्लॉगर्स जिन्हें भी आप Follow करते हैं उनमे से कोई भी रातो रात इस मुकाम पर नहीं पंहुचा है.

उन सभी की सफलता के पीछे कई सालों की मेहनत और संघर्ष छुपा है, यदि हम बात करें हर्ष अग्रवाल की तो भारत में हर्ष ने ब्लॉगिंग को अपना करियर तब चुना जब इसके बारे में अन्य लोगों ने सुना भी नहीं था जिसके बाद हर्ष ने कई चुनौतियों का सामना किया और अपने कार्य में सफल हुए.

आज हम सभी हर्ष को अपना आदर्श मानते है लेकिन यदि हर्ष ने भी उन चुनौतियों को स्वीकार करने की बजाय वहीं छोड़ दिया होता तो आज शायद हर्ष महीने के 32 लाख रूपये कमाने की जगह किसी कम्पनी में सीमित वेतन पर अपनी गुजर कर रहे होते.

उम्मीद करते है , Kuldeep Yadav की इस कहानी से आपको जरुर प्रेरणा मिली होगी और आप भी अपने करियर में Kuldeep Yadav की तरह जरुर सफलता पायेगें,ये पोस्ट कैसी लगी आप हमें comment में बताये अगर बढ़िया लगे तो आप social media पर शेयर जरुर करे धन्यबाद |

22 कॉमेंट्स

  1. कुलदीप यादव ex क्रिकेटर नहीं हैं वो अभी वर्तमान में भी खेल रहे हैं

  2. हर इंसान चाहे वो कोई भी क्षेत्र में काम कर रहा हो उसे कभी न कभी कुछ मुश्किल परिस्थितियों का सामना करना ही पड़ता है । कभी-कभी हमे ऐसा होता है कि हम परेशानी में फंस चुके होते हैं हमें समझ नही आता कि क्या करे?
    उस वक्त में ‘motivation’ की जरुरत होती है जो हमें कठिन परिस्थितियों में भी हमारे मन को शांत बनाने में कायम रखता है और हमे मुशकिलों से लड़ने के नए ताकत दिलाता है। so, आपकी भी same ‘motivation’ है।
    बहूत ही खुश हुआ आपकी यह लेख को पढ़कर ..
    इस great लेख को साझा करने के लिए thanks..!! 👍

जवाब दे

अपना कोमेंट लिखे
अपना नाम लिखे

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.