entrepreneur in hindi

entrepreneur और entrepreneurship क्या है और entrepreneur कैसे बने

Entrepreneurएक ऐसा शब्द है जिसको सुनते ही एक ऐसे व्यक्ति की छवि सामने आ जाती है जो बहुत मेहनती हो और जो सबसे हटके काम करने की सोच रखता हो। और जो नेगेटिव चीज़ो को पॉजिटिव में ले।

Entrepreneur का हिंदी meaning उधमी या व्यवसायी होता है। एक entrepreneur क्या होता है और entrepreneur कैसे बनते है ऐसे ही कई सवाल आपके दिमाग मे घूम रहे है।

आपके मन मे जो कोई भी entrepreneur या entrepreneurship से सम्बंधित सवाल है आज उन्ही के बारे में बात करेंगे।

entrepreneur in hindi

वैसे तो एंटरप्रेन्योर या उधमी बनने के लिए आपको किसी खास चीज की आवश्यकता नही होती जैसे डिग्री इत्यादि। सैकड़ों ऐसे entrepreneur है जिनके पास कोई भी डिग्री नही है लेकिन फिर भी वह एक successful entrepreneur बन चुके है।

entrepreneur बनने से पहले आपको कई चीजों का ध्यान रखना पड़ता है और अगर आप entrepreneurship में कैरियर बनाने के बाद उन चीजों पर ध्यान देते हो तो ये आपके स्टार्टअप के लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है।

एक कामयाब entrepreneur बनने के लिए आपको communication skills, marketing skills जैसी चीजों का ज्ञान होना बहुत जरूरी है।

इनमे से communication skills को मैं सबसे अधिक महत्वता देता हूं क्योंकि इसके बिना एंटरप्रेन्योर का स्टार्टअप ऊपर नही उठ सकता।

इसके अतिरिक्त एक entrepreneur में अपनी बात को स्पष्ट तरीके से रखने और उसे लोगो को समझाने की कला का होना भी बहुत जरूरी है। उसमे leadership की qualities का होना बहुत जरूरी है। आगे हम इनके बारे में विस्तार से बात करेंगे।

पहले हम शुरू से शुरुआत करेंगे। इस पूरे आर्टिकल में हम आपको नीचे लिखी चीज़ो के बारे में जानकारी देंगे जोकि किसी भी entrepreneur को अपना स्टार्टअप शुरू करने से पहले जानना जरूरी है

  • एंटरप्रेन्योर क्या होता है।
  • एंटरप्रेन्योरशिप क्या होती है।
  • एक entrepreneur कौन बन सकता है
  • Entrepreneur बनने के लिए आपके अंदर क्या क्या qualities होनी चाहिए।
  • entrepreneur कहाँ से शुरुआत करें।
  • एक कामयाब एंटरप्रेन्योर कैसे बने |

 

What is entrepreneur in hindi? एंटरप्रेन्योर क्या होता है।

entrepreneur एक ऐसा व्यक्ति होता है जो खुद के दम पर एक बिजनेस शुरू करता है जिसे एक entrepreneur की भाषा मे स्टार्टअप कहा जाता है वैसे स्टार्टअप और बिजनेस दो अलग अलग चीजे है आगे बढ़ने से पहले हम इन दोनो चीज़ो के अंतर को समझ लेते है।

स्टार्टअप vs बिज़नेस startup vs business या entrepreneur vs businessman in hindi

 

startup vs business in hindi

entrepreneur

एक entrepreneur (स्टार्टअप) वो होता है जो भविष्य की सोचता है और जो सबको साथ लेकर चलता है वो विकास के बारे में सोचता है। एक entrepreneur के लिए goal achieve करना पहले होता है और अपनी सोच पर काम करना पहले होता है और पैसा कमाना वाद में होता है।

एक entrepreneur ये सोचकर स्टार्टअप शुरू करता है कि भविष्य में उसकी वैल्यू रहेगी या नही उससे लोगो की मुश्किलें आसान होंगी या नही उसका यह स्टार्टअप सबका विकास कर पाएगा या नही।

Businessman

एक Businessman का साधारण सा लक्ष्य होता है और वो है पैसे कमाना। जब कोई Businessman किसी भी प्रकार का बिजनेस शुरू करता है तो वह सबसे पहले एक ही बात सोचता है कि क्या इस बिजनेस से उसे फायदा होगा या नही इससे वो पैसे कमा पाएगा या नही।

इसके अलावा एक entrepreneur और businessman में कई और अंतर भी है लेकिन आप अभी फिलहाल ये मान के चलिए की एक entrepreneur future की सोचता है और एक बिजनेसमैन पैसे की।

और जब कोई entrepreneur किसी प्रकार का स्टार्टअप शुरू करता है तो वह उस स्टार्टअप को सफल बनाने के लिए जी जान से मेहनत करता है और entrepreneurs को उनके दृढ़ निश्चय के लिए जाना जाता है।

entrepreneur का एक ही मकसद होता है और वो है, अपने एक idea से दुनिया को बदल देना और एक entrepreneur जब किसी idea के बारे में सोचता है तो वह बिल्कुल ही अलग तरीके से सोचता है।

entrepreneur हमेशा ही सबसे अलग startup शुरू करने की सोच रखता है और वो जब किसी स्टार्टअप को शुरू करता है तो वह पहले स्वयं से एक सवाल करता है कि क्या इस स्टार्टअप में उसका interest है और क्या इससे लोगो की मुश्किलें दूर होंगी।

और अगर इन सवालों का जवाव हां होता है तो वह उस स्टार्टअप को शुरू करके उसे सफलता के शिखर पर ले जाने के लिए ताबड़ तोड़ मेहनत करता है और तब तक मेहनत करता है जब तक कि वो अपने उस सपने को पूरा नही कर लेता जिसे उसने खुली आँखों से देखा था।

एक entrepreneur में एक चीज बहुत ज्यादा पाई जाती है और वो है हर चीज से कुछ न कुछ सीखना। अगर किसी entrepreneur से कोई गलती होती है तो वह उसका पछतावा करने की बजाए उससे प्रेरीत होकर अपने काम को और तेजी से करता है।

अब अगर साधारण शब्दो मे कहें तो एक entrepreneur या startup का एक ही मकसद होता है कि एक idea से दुनिया को बदल देना और इसके बहुत सारे उदाहरण आपके सामने है, फ्लिपकार्ट, जबोंग, स्नैपडील, redbus, oyo इत्यादि।

इनके अलावा कई और उदहारण भी है जिनके एक आईडिया ने दुनिया को बदल के रख दिया है जिनमे एक जाना माना नाम elon musk का है आज के समय मे नए entrepreneurs इन्ही से प्रेरीत हो रहे है। और entrepreneur को पागल के नाम से भी पुकारा जाता है क्योंकि वो जिस चीज के बारे में सोचते है वो सबको एक नामुमकिन बात लगती है लेकिन एक entrepreneur उसे मुमकिन करके दम लेता है।

 

इसके अलावा जब कोई entrepreneur किसी स्टार्टअप को शुरू करता है तो उसके सामने कई choices होती है अगर simple words में बालू तो स्टार्टअप भी कई प्रकार के होते है लेकिन स्टार्टअप को मुख्य तौर पर 6 भागो ने बांटा जाता है जिनकी जानकारी नीचे दी गई है।

 

(अगर आप स्टार्टअप के प्रकार के बारे में जानना चाहते है तभी पढ़ें नही तो इससे अगला heading पढ़ें) (जरूरी नही है)

स्टार्टअप कितने प्रकार के होते है – types of startup

types of startup in india in hindi

1.big business startup (बिग बिजनेस स्टार्टअप) – जब कोई बड़ी कम्पनी किसी नए काम को शुरू करती है।

2. Social entrepreneurship startup (सामाजिक उद्यमिता स्टार्टअप) – जब कोई एंटरप्रेन्योर समाजिक सुधार के लिए स्टार्टअप शुरू करें और वो अपने उस स्टार्टअप से दुनिया को बदलना चाहता हो।

3. Buyable startups (खरीदने योग्य स्टार्टअप) – कुछ ऐसे स्टार्टअप्स भी होते है जिन्हें सफल होने के बाद बेच दिया जाता है जैसे इंस्टाग्राम को फेसबुक को बेचा गया था तो ये एक खरीदने योग्य स्टार्टअप का उदहारण है।

4. Scalable startups (स्केलेबल स्टार्टअप) – इसमे इन्वेस्टर्स इन्वेस्ट करके स्टार्टअप को वैश्विक स्तर तक ले जाते है।

5. small and medium sized enterprise startup (लघु और मध्यम आकार के एंटरप्राइज़ स्टार्टअप) – जब जरूरतों को पूरा करने के लिए स्टार्टअप की शुरुआत की जाती है।

6. Lifestyle startups (लाइफस्टाइल स्टार्टअप) – जब कोई entrepreneur अपनी रुचि के कारण किसी स्टार्टअप की शुरुआत करता है जैसे कि अगर आपको फोटोग्राफी में शोक है तो उसमें ही स्टार्टअप की शुरुआत कर देना।

 

What is Entrepreneurship in hindi? उद्यमिता क्या होती है।

entrepreneurship in hindi

Entrepreneur क्या होता है और उसके स्वभाव कैसा होता है ये तो आप जान गए होंगे लेकिन अब हम बात करेंगे Entrepreneurship की कि आखिर ये होती किया है।

उद्यमिता या Entrepreneurship एक नए स्टार्टअप को डिजाइन करने, लॉन्च करने और चलाने की प्रक्रिया है, जो अक्सर शुरू में एक छोटा स्टार्टअप या व्यवसाय होता है, और बाद में वह एक विशाल रूप भी ले सकता है। इन व्यवसायों को बनाने वाले लोगों को उद्यमी या entrepreneur कहा जाता है ।

अगर साधारण शब्दों में कहूँ तो entrepreneur द्वारा जो स्टार्टअप शुरू किया जाता, तो उस स्टार्टअप को शुरू करने और उसे सफल बनाने की प्रक्रिया को Entrepreneurship का नाम दिया जाता है।

Entrepreneurship में स्टार्टअप का idea, उसको बनाना, अपने स्टार्टअप को सफल बनाने का एक प्लान बनाना, प्लान पर काम करना, स्टार्टअप को एक हाई लेवल तक ले जाना जैसी चीजें शामिल है। Entrepreneurship करने वाले को ही entrepreneur कहा जाता है और एक entrepreneur जो कार्य करता है उसे Entrepreneurship कहा जाता है

 

Who become an entrepreneur in hindi – एक entrepreneur कौन बन सकता है।

who became an entrepreneur in hindi

अब बात आती है की आखिर एक entrepreneur या उद्यमी कौन बन सकता है। तो अगर आपके अंदर किसी चीज़ को करने का जज़्बा है और अगर आपके पास कोई ऐसा idea है जो सब से अलग है और वो लोगो की मुश्किलें हल कर सकता है तो आप एक entrepreneur बन सकते हो।

Entrepreneur या उधमी बनने के लिए किसी खास प्रकार की डिग्री की जरूरत नही होती बस आपके पास अच्छी सूझबूझ और मन लगाकर काम करने की भावना होनी चाहिए फिर आप एक अच्छे entrepreneur बन सकते हो

आज आपके सामने कई ऐसे उदाहरण है जोकि बिना किसी डिग्री के एक सफल entrepreneur बने है बस उनमें उनके काम को करने की लगन थी और उनकी जिंदगी का एक स्पष्ट लक्ष्य था।

Entrepreneur बनने के लिए क्या क्या qualities होनी चाहिए। quality of entrepreneur in hindi

quality of entrepreneur in hindi

एक सफल entrepreneur बनने के लिए आपके अंदर कुछ qualities का होना जरूरी है यही qualities आपको और आपके स्टार्टअप को सफलता के शिखर तक ले कर जाती है। कुछ qualities कस मैंने नीचे बर्णन किया है।

1. मन लगाकर काम करना – एक entrepreneur में किसी काम को मन लगाकर काम करने की quality का होना बहुत जरूरी है।

2. सबको साथ लेकर चलना – एक entrepreneur को सबको साथ लेकर चलने की quality के लिए जाना जाता है। एक entrepreneur मानता है कि उसका काम उसके साथ काम करने वाले लोगो की वजह से चल रहा है इसलिए वह सबको साथ लेकर चलता है।

3. Hard work + smart work – कई लोगो को मैंने कहते सुना है कि आप हार्ड वर्क की जगह स्मार्ट वर्क किया करो लेकिन एक entrepreneur Hard work + smart work दोनों को साथ करता है। एक तरफ वो रात भर जागकर हार्ड वर्क करता है और दूसरी तरफ सुबह उठकर उसे smartly promote भी करता है।

4. कभी हार न मानना – एक entrepreneur में कभी हार न मानने वाली quality का होना बहुत जरूरी है क्योंकि एक entrepreneur का स्टार्टअप उसके मजबूत इरादों पर टिका होता है।

5. Communication skill – एक entrepreneur के अंदर Communication skill का होना बहुत जरूरी है।

entrepreneur kahan se start kren | उधमी कहाँ से शुरुआत करें।

where to start entrepreneurship in hindi

अब बात आती है कि आखिर एक entrepreneur को कहां से शुरुआत करनी चाहिए, तो एक entrepreneur को छोटे लेवल से शुरुआत करनी चाहिए जैसे की अपने शहर से, फीर राज्य में, फिर देश मे, फिर दुनिया मे।

अगर देखा जाए तो सभी स्टार्टअप्स पहले छोटे लेवल से शुरू हुए थे और बाद में वह बड़े लेवल पर गए। लेकिन अगर आप शुरुआत से ही बड़े लेवल पर स्टार्टअप को लाना चाहते है तो उसके लिए आपको फंड्स एंड इन्वेस्टमेंट की जरूरत होती है जोकि आपके लिए एक challenging task हो सकता है पर impossible नही।

How to become an entrepreneur in hindi- इंट्रप्रेनेउर कैसे बने |

entrepreneur kaise bane

सबसे मुख्य पॉइंट ये है कि अब आखिर entrepreneur बना कैसे जाता है

entrepreneur बनने की पूरी process को मैंने 4 भागो में बंटा है आपको एक करके एक को पूरा करना है और फिर आप एक entrepreneur बन सकते है।

#1. Find idea – सबसे पहले आपको एक idea ढूंढना है। याद रहे वो एक ऐसा idea होना चाहिए जो लोगो के काम आ सकें और साथ मे आप लोगो को रोजगार दे सकें। idea ढूंढने के बाद आपको दूसरा स्टेप फॉलो करना है।

#2. Collect all things about idea – idea ढूंढने के बाद अब आपको उस आईडिया से सम्बंधित सभी प्रकार के तथ्यों को इक्कठा कर लेना है जैसे किसी और ने इस आईडिया पर काम किया अगर हां तो उसे सफलता मिली और मिली तो उसे क्या परेशानियां आई और अगर सफल नही हुआ तो उसके पीछे क्या कारण रहे है, और ये idea लोगो की जरूरत है, ये idea लोगो की किसी समस्या को दूर करेगा या नही, इस तरह के कई सवाल आपको खुद से करने है और फिर तथ्य ढूढने है।

#3. Discuss idea – अब आपको अपने उस idea को लोगो के साथ discuss करना है कि इससे उन्हें फायदा होगा या नही अगर आप अपने idea को किसी से बताना नही चाहते तो आप बातों बातों में उनसे ये पूछ सकते है या ये सवाल कर सकते है कि “काश इस प्रॉब्लम का कुछ इस तरह का सल्यूशन मिल जाता तो कितना अच्छा था”. और लोगो की राय जननी आप इसके लिए सोशल मीडिया का सहारा ले सकते है।

#4. Work on idea – अब ये सब करने के बाद आपको अपने idea पर काम करना शुरू कर देना, शुरुआत में आपको सारा काम खुद भी करना पड़ सकता है लेकिन जैसे जैसे आपका काम बढ़े आप लोगो को कम पर रख सकते है।

पढ़ने में आपको बड़ा आसान लगा होगा कि सिर्फ एक idea से कम्पनी खड़ी कर दो लेकिन एक जितना आसान पढ़ने में उससे कहीं ज्यादा कठिन करने में है। एक बात का हमेशा ध्यान रखना की entrepreneur success की पहले सोचता है और पैसे की बाद में।

अगर आप भी एक सफल entrepreneur बनना चाहते हो तो आज से ही अपने idea पर बिना थके काम करना शुरू कर दीजिए और आज का ये आर्टिकल entrepreneur और entrepreneurship क्या है और entrepreneur कैसे बने पोस्ट कैसी लगी कमेंट में जरूर बताएं और सवाल हो जरूर पूछे और राय भी जरूर दें।

Leave a Comment